Home देश BJP भक्त ‘पत्रकारों’ पर भड़के वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम, पूछा ‘इतनी मोटी...

BJP भक्त ‘पत्रकारों’ पर भड़के वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम, पूछा ‘इतनी मोटी चमड़ी कैसे बना लेते हो भाई ?’

SHARE

नई दिल्ली – वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने पार्टी विशेष का समर्थन करने वाले पत्रकारो पर निशाना साधा है, उन्होंने सवाल किया कि इतनी मोटी चमड़ी कैसे बना लेते हो भाई ? खुद को पत्रकार कहते हो और बीजेपी के लिए आंख मूंदकर झाल और गाल बजाते हो। मैं कहता हूं कि कांग्रेस ने साठ साल तक धतरकम के कई रिकार्ड बनाए हैं। राज्यपालों को एजेंट बनाकर सरकारें बनाई और गिराई है। हार्स ट्रेडिंग के धंधे की शुरुआत की है। सांसदों – विधायकों की बोली लगाकर अपनी सरकारें बनाई और बचाई है।

अब अगर आप अंधभक्त नहीं हो तो एक बार ऑन रिकार्ड यही बात आप भी मान लो कि जिस पार्टी के लिए आप ढोल- मजीरा बजाते रहते हैं, उसने भी चार सालों में ऐसे काम किए हैं। उत्तराखंड से लेकर गोवा तक क्या हुआ ? कर्नाटक में क्या हो रहा है ? ये जो बहुमत की खोज हो रही है , वो क्या है ? इतनी मोटी चमड़ी कैसे है भाई आपकी ?  अगर है तो कहो न कि है मोटी चमड़ी। हैं हम अंधभक्त। कांग्रेस ने घोटालों के रिकार्ड बनाए हैं । घोटालेबाजों का पनाहगाह है। तो मुकुल रॉय से लेकर सुखराम तक क्या हैं ? कभी तो आप भी बोलो महोदय।

कांग्रेसी सरकारों ने साठ सालों में ऐसे धतकरम बहुत बार किए हैं। राज्यों में भी और केन्द्र में भी। झामुमो नेताओं से लेकर रामलखन यादव तक को कैसे खरीदकर नरसिंह राव ने अपनी सरकार बचाई थी, वो सब तो हमने अपनी आंखों से देखा था। राज्यपालों को अपना एजेंट बनाकर कांग्रेस सरकारों ने कब -कब ऐसे खेल किए, विस्तार से बताने की जरुरत नहीं। खुद गूगल करके देख लीजिए।

अब वही सब बीजेपी कर रही है। उत्तराखंड से लेकर गोवा, मणिपुर और मेघालय के बाद अब कर्नाटक में, तो मान लेने में क्या हर्ज है कि साठ सालों में जो -जो कांग्रेस ने किया है , वो सब हम भी करेंगे। धरकरम का जवाब धतकरम से देंगे। इतनी सी तो बात है। मान लीजिए तो बात खत्म दिलचस्प तो ये है कि भक्त कहने पर चिढ जाने वाले बुद्धिजीवी और पत्रकार कांग्रेस के अतीत की तो बात कर रहे हैं, बीजेपी के वर्तमान की नहीं।

बार -बार साबित करने में जुटे हैं कि राज्यपाल ने कोई गलती नहीं की। बीजेपी तो दूध की धुली है ।कांग्रेस ने ये किया। कांग्रेस ने वो किया। किया न। तो बीजेपी ने भी चार सालों में बहुत कुछ किया। उत्तराखंड में कोर्ट से बेआबरु हुए। गोवा और नार्थ इस्ट में राज्यपालों का इस्तेमाल करके सत्ता में आए। भक्ति ऑप्टिकल का चश्मा पहनकर झाल और गाल बजाने वाले ऐसे लोग एक बार अपना चेहरा आइने में देखें फिर बात करे। और हाँ , कांग्रेस के लिए यही बात डंके की चोट पर तब भी कहते थे, जब कांग्रेसी सरकारें थी।