Home देश कर्नाटक का नाटकः अलका बोलीं, ‘संघी राज्यपाल इस उम्र में अपनी कुर्सी...

कर्नाटक का नाटकः अलका बोलीं, ‘संघी राज्यपाल इस उम्र में अपनी कुर्सी बचाऐं या फिर लोकतंत्र?’

SHARE

नई दिल्ली – कर्नाटक में सत्ता पाने को लेकर चल रही उठापठक के दौरान कर्नाटक के राज्यपाल की चौतरफ आलोचना हो रही है। इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा ने भी कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई पर निशाना साधा है। अलका बहुमत न होने की स्थिती में भी येदीयुरप्पा को सीएम पद की शपथ दिलाये जाने से नाराज हैं। बता दें कि बीते गुरुवार को राज्यपाल वजुभाई ने भाजपा के बीएस येदीयुरप्पा को कर्नाटक के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ दिलाई थी। और भाजपा को बहुमत साबित करने के लिये 15 दिन का समय दिया था।

भाजपा वैसे तो राज्य में सबसे बड़ी पार्टी है लेकिन उसके पास बहुमत नही है, वहीं जेडीएस और कांग्रेस लगातार अपने पास बहुमत होने का दावा कर रही हैं लेकिन राज्यपाल वजुभाई ने इन दोनों दलों को सरकार बनाने के लिये आमंत्रित नहीं किया बल्कि भाजपा को आंत्रित किया। कांग्रेस ने जहां इसको लोकतंत्र की हत्या करार दिया वहीं इसी से नाराज अलका लांबा ने राज्यपाल वजुभाई पर निशाना साधा।

अलका ने तंज करते हुए कहा कि ‘संघी-राज्यपाल: अब मैं इस उम्र में अपनी कुर्सी बचाऊं या फिर लोकतंत्र ?’ उन्होंने आगे कहा कि संघियों ने आज तक कांग्रेस का इतिहास नही पढ़ा होगा, पर आज गांधी, सरदार पटेल, नेहरू, बोस सबका इतिहास पढ़ने में और उसकी आने मन मुताबिक व्याख्या करने में व्यस्त हैं, बस किसी तरहा कर्नाटक में अपने कुकर्मों को सही ठहरा सकें या फिर ढक सकें। गोड़से चले हैं गांधी से अपनी तुलना करने।

आम आदमी पार्टी की विधायक ने जेडीएस विधायकों द्वारा बेंग्लूरू छोड़ने को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा है उन्होंने कहा कि BJP के राज में आज कोई भी सुरक्षित नही है, ना जज, ना जवान , ना किसान, ना बेटियाँ, ना लोकतंत्र , ना संवैधानिक संस्थायें. और अब तो क़ानून के निर्माता चुने हुए विधायक ही BJP से भागते फिर रहे हैं, किसी को CBI तो किसी को ED का डर दिखाया जा रहा है. धिक्कार है ऐसी संघी-मोदी सरकार पर।

बता दें कि जेडीएस के विधायक बेंग्लूरू के शिवाजी नगर स्थित शिंगरीला होटल में रुके हुए थे, लेकिन गुरूवार को ही वे विधायक वहां से केरल के कोच्ची और कुछ विधायक हैदराबाद के लिये रवाना हो गये थे, जेडीएस के विधायकों का आरोप था यहां पर भाजपा नेताओं द्वारा उन्हें परेशान किया जा रहा है।