Home देश अयोध्याः योगी सरकार को संदेह कि साधु-संतों के भेष में जमा हैं...

अयोध्याः योगी सरकार को संदेह कि साधु-संतों के भेष में जमा हैं अपराधी, शुरु किया पुलिस वेरिफिकेशन

SHARE

लखनऊ यूपी योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार अब अयोध्या में साधुओं और संतों का सत्यापन करवा रही है. समाचार ऐजेंसी एएनआई के मुताबिक पुलिस अब मठों और मंदिरों में रहने वाले साधु संतों का सत्यापन कर रही है, ताकि भेष बदलकर कोई अपराधी साधुओं में न छिपा बैठा हो.

मिली जानकारी के मुताबिक इसके लिए यूपी पुलिस बीते तीन महीनों से रजिस्टर भी बना रही है, जिसमें साधु-संतों की पूरा डिटेल मौजूद है. वहीं पुलिस की इस मुहिम का समर्थन साधु समाज भी कर रहा है. पुलिस द्वारा किये जा रहे इस वेरीफिकेशन में साधु और संतों की पूरी जानकारी मांगी जा रही है. इसमें साधु और संतों का जन्‍म स्‍थान, पहचान, और आपराधिक रिकॉर्ड समेत कई अहम जानकारियों को पुलिस जुटा रही है.

पुलिस का मानना है कि अगर कोई घटना घटित होती है तो इस रजिस्‍टर के द्वारा किसी भी संत की समय रहते पहचान की जा सकती है. पुलिस का कहना है कि अयोध्या में राम जन्मभूमि – बाबरी मस्जिद विवादित स्थल होने के कारण सुरक्षा के लिहाज से हमेशा संवेदनशील रहा है. प्रशासन का तर्क है कि अयोध्या में देश के विभिन्न हिस्सों से साधू भगवान के दर्शन करने आते हैं और यहां के मठों और मंदिरों में ही बस जाते हैं. जिनकी विश्वसनीयता की जांच कर पाना मुश्किल हो जाता है.

पुलिस के मुताबिक अब बाहर से आकर बसने वाले इन साधुओं और संतों पर विशेष नजर रखी जाएगी. संतों का कहना है कि साधू भेष में अपराधी भी अयोध्या में रहकर अपराधिक एक्टिविटी को अंजाम देते हैं. इसके अलावा अपराधी साधु के भेष में रह कर खुद की भी अपराधिक गतिविधियों को छिपाते हैं. साथ ही यहीं से अपराधिक गतिविधियों का संचालन भी करते रहे हैं. कई बार अयोध्या से बिहार समेत दूसरे राज्यों की पुलिस साधू भेषधारी अपराधियों को गिरफ्तार भी कर चुकी है.