Home देश BJP सांसद मुरली मनोहर जोशी ने फिर साधा PM मोदी पर निशाना,...

BJP सांसद मुरली मनोहर जोशी ने फिर साधा PM मोदी पर निशाना, कहा ‘अच्छा हुआ भगवान ने….’

SHARE

नई दिल्ली – पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को एम्स में देखकर आए भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि अटल जी का इलाज चल रहा है और उनकी सेहत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है.मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि अस्पताल में भर्ती अटल जी की हालत स्थिर है.पूर्व केंद्रीय मंत्री जोशी ने कहा कि अटल जी से कोई भी मिल नहीं सकता है क्योंकि उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी गिर गई है,जिस कमरे उन्हें रखा गया हैं वहां से ही बाहर से देख सकते हैं. हम सभी को उनके परिवार का सहयोग करना चाहिए.

अटल बिहारी सरकार में मंत्री रहे मुरली मनोहर जोशी ने मोदीमय हुई बीजेपी में बुजुर्गो को अलग थलग करने पर उन्होंने कहा कि शायद अटल बिहारी को प्रकृति ने उन्हें इसलिए चुप करा दिया है क्योंकि आज की राजनीतिक परिस्थिति को देखते हुए वह क्या कहते? अटल जी का अपनी बात कहने का अलग अन्दाज़ था. वो बड़ी से बड़ी बात को बड़े सहज रूप से कहने की क्षमता रखते थे.पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी को बीते दिन दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था.एम्स ने बयान जारी करते हुए कहा है कि उनकी हालत स्थिर है, लेकिन अभी इलाज चल रहा है और उन्हें अस्पताल में भी रखा जाएगा.बीते दिन राहुल गांधी ने एम्स जाकर उनका हाल जाना था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत कई दिग्गज नेताओं ने एम्स में अटल बिहारी की तबीयत की जानकारी ली. मंगलवार को भी बड़े नेताओं के एम्स जाने का सिलसिला जारी है.पूर्व पीएम मनमोहन सिंह भी वायपेयी का हाल जानने के लिए एम्स पहुंचे हैं.

किस बीमारी का हो रहा इलाज?

अस्पताल की ओर से रात पौने ग्यारह बजे जारी हेल्थ बुलेटिन में एम्स ने कहा है कि अटल बिहारी वाजपेयी को लोअर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और किडनी संबंधी दिक्कतों के बाद भर्ती कराया गया था.जांच में उन्हें यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन निकला है. बुलेटिन में कहा गया कि अटल बिहारी वाजपेयी का उचित इलाज किया जा रहा है और उन्हें डॉक्टरों की एक टीम की निगरानी में रखा गया है.गौरतलब है कि अटल बिहारी वाजपेयी 1998 से 2004 तक देश के प्रधानमंत्री थे.उनका स्वास्थ्य खराब होने के साथ ही धीरे -धीरे वह सार्वजनिक जीवन से दूर होते चले गए और कई साल से अपने आवास तक सीमित हैं.