Home देश इस सांसद ने खोला एक और राज़, कहा ‘मैंने जेटली को विजय...

इस सांसद ने खोला एक और राज़, कहा ‘मैंने जेटली को विजय माल्‍या से बात करते हुए देखा, चौकीदार सिर्फ भागीदार नहीं, गुनहगार भी’

SHARE

नई दिल्ली – भारतीय बैंकों से 9 हजार करोड़ रुपये से भी अधिक का कर्ज लेकर विदेश भागने वाले उद्योगपति विजय माल्या ने हाल ही में कहा था कि वह भारत छोड़ने से पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिले थे. माल्या के इस बयान के बाद देश की राजनीतिक गर्मा गई. इस मुद्दे पर कांग्रेस समते दूसरे विपक्षी दल अरुण जेटली पर हमलावर हो गए. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वित्तमंत्री जेटली के इस्तीफे की मांग की.

अब कांग्रेस के राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया ने कहा कि विजय माल्या के भागने के दो दिन पहले ही भारतीय संसद में अरुण जेटली के साथ उनकी लंबी बैठक हुई थी. मैंने यह खुद देखा था. हालांकि, इस पूरे मामले को अरुण जेटली निराधा बता रहे हैं.

पीएल पुनिया ने ट्वीट करके  कहा, “अरुण जेटली झूठ बोल रही है. मैंने विजय माल्या और अरुण जेटली को पार्लियामेंट के सेंट्रल हॉल में बातचीत करते देखा था. यह देखने से गंभीर बातचीच लग रही थी. हो सकता है कि उसी बातचीत में अरुण जेटली ने माल्या को देश छोड़ने की सलाह दी होगी. कहा होगा कि चले जाइए यहां से, यहां की जांच एजेंसी आपके पीछे पड़ी हुई हैं. उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि चौकीदार न केवल भागीदार बल्कि गुनाहागर भी है. मैंने तो देखा था, जेटली इसका खंडन करें. संसद सदस्य होने के नाते मैं भी वहां सेंट्रल हॉल में था.”

राहुल का भी हमला

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी अरुण जेटली और मोदी सरकार पर निशाना साधा है उन्होंने कहा है कि, “विजय माल्या ने लंदन में जिस तरह के गंभीर आरोप लगाए हैं, वैसे में प्रधानमंत्री को तुरंत एक स्वतंत्र जांच करानी चाहिए. जब तक जांच जारी रहता है, अरुण जेटली को वित्त मंत्री के पद से हट जाना चाहिए.

क्या बोले अरुण जेटली

इस पूरे प्रकरण पर अरुण जेटली ने कहा है कि, “माल्या का बयान तथ्यात्मक रूप से सही नहीं है. मैंने 2014 के बाद कभी भी उनको मिलने के लिए वक्त नहीं दिया. हालांकि, वे राज्यसभा के सांसद थे और सदन में आते-जाते रहते थे, इसलिए उस विशेषाधिकार का दुरुपयोग किया. जब मैं अपने रूम में जाने के लिए सदन से बाहर निकल रहा था, तो वे मेरे पीछे-पीछे आए और कहा कि मैं एक सेटेलमेंट का ऑफर दे रहा हूं. मैंने बातचीत को आगे नहीं बढ़ाया और कहा कि मुझसे बात करने का कोई मतलब नहीं है. आप बैंकरों से बात कीजिए.”

गौरतलब है कि विजय माल्या ने लंदन में कोर्ट के बाहर पत्रकारों से कहा, “मैं देश छोड़कर तब इसलिए गया था, क्योंकि मुझे जेनेवा में एक बैठक में जाना था. जाने से पहले मैं वित्त मंत्री से मिला था. मैंने बैंकों से मामला सलटाने की बात दोहराई थी. यही सच है.”