Home पड़ताल जानिये कौन है ? जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद को जान से...

जानिये कौन है ? जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद को जान से मारने की धमकी देने वाला रवि पुजारी

SHARE

नदीम खान

नई दिल्ली – तीन दिन पहले गुजराते के निर्दलीय विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को जान से मारने की धमकी मिली थी, यह धमकी उन्हें बीते दिन से लगातार मिल रही है, धमकियां देने वाला शख्स कथित तौर पर रवि पुजारी है। उधर जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद को भी जान से मारने की धमकी मिली है, यह धमकी भी कथित तौर पर रवि पुजारी द्वारा दी गई है।

कौन है रवि पुजारी

जिस समय इंडियन मुजाहिदीन को लेकर कांग्रेस वाले कभी लेटर कभी साहित्य कभी फ़ोन के नाम पर मुस्लिम नौजवानों को उठा कर जेल भेजा जा रहा था उस वक़्त महमूद पराचा ने कई लड़को को जमानत दिलवाई। फिर क्या था रवि पुजारी का फ़ोन महमूद पराचा के पास, एडवोकेट शाहिद आज़मी का आप सबको मालूम है। उसके बाद जब जेएनयू वाला मामला हुआ तो उमर खालिद के वालिद के पास रवि पुजारी का फ़ोन आ गया। इस बार कोरेगांव के बाद जब जिग्नेश के पास रवि पुजारी का फ़ोन आ गया साथ मे उमर खालिद के लिए भी मैसेज भेजा गया।

इंटेलीजेंस की नाकामी

मतलब साफ है कि इंटेलिजेंस ब्यूरो इंडियन मुजाहिदीन से लेकर अर्बन नक्सल तक एक ही कहानी ठीक उसी तरह जैसे आतंकवाद के मामले में 95% आरोपियों की चार्जशीट एक ही जैसी होती थी,मतलब आसिफ इब्राहिम से लेकर डोभाल तक एक ही कहानी है वैसे कुछ लोग कह रहे है कि लेटर मिला है कुछ मेहनत ही कर लेते भारतीय जेम्स बांड,मेहनत का ये हाल जांच एजेंसियों का की एक बार एक लड़के को हैदराबाद में सीरत पाक( रसूल की प्रशंसा का )का जलसा करवाने पर आतंकवाद का मुकदमा लगा दिया था और चार्जशीट में अंग्रेज़ी में लिखा गया गूडनेस ऑफ पाक यानी पाकिस्तान की प्रशंसा वगैरा।

सो इन सब के बाद भी अगर कोई जांच एजेंसियों से कुछ गंभीर उम्मीद कर रहा है तो उसके लिए सिर्फ हमदर्दी है ,बाकी कांग्रेस को उसकी मिठाई का स्वाद मिलना चाहिए जो उसने शिवराज पाटिल और चिमदम्बरम के समय पकाई थी। बाकी रवि पुजारी नाम या तो कोई खिलाड़ी है नही कोई ऐजेंसी का आदमी ही उसके नाम से फ़ोन करता है या एजेंसी का कोई मोहरा है। वैसे किसी पुजारी ने आज तक कभी किसी भिंडे, एकबोटे या किसी विनय कटियार, साक्षी महाराज को फ़ोन नही किया।

(लेखक यूनाईटिड अगेंस्ट हेट अभियान के सदस्य हैं)