Home देश भारत का संविधान जलाने वाले मनुवादियो पर भड़के अमीक़ जामेई, कहा ‘भारतीय...

भारत का संविधान जलाने वाले मनुवादियो पर भड़के अमीक़ जामेई, कहा ‘भारतीय लोकतंत्र के लिये यह स्याह दिन है’

SHARE

नई दिल्ली बीते 9 अगस्त को दिल्ली के जंतर मंतर पर आरक्षण विरोधी अभियान चलाने वाले स्वर्णों, और एससी/ एसटी एक्ट का विरोध करने वालो ने भारतीय संविधान की प्रतियां जला डालीं। उनकी इस करतूत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हैरानी की बात यह है कि यह सब दिल्ली पुलिस की मौजूदगी में हुआ। पहले संविधान जलाने वालो ने भीम राव अंबेडकर के खिलाफ नारेबाजी की और फिर संविधान की प्रतियों को जला दिया।

मनुवादियो द्वारा संविधान जलाये जाने से नाराज “संविधान बचाओ देश बचाओ अभियान के संयोजक अमीक जामेई ने कहा की आरएसएस की मानसिकता व आरक्षण विरोधियो ने भारत के संविधान को दिल्ली पुलिस के सामने जला दिया और पुलिस तमाशा देखती रही, लोकतंत्र के लिये यह स्याह दिन है।

नेशनल स्पीक से बात करते हुए अमीक जामेई ने कहा कि  हम जानते है संघ ने देश के सभी संस्थानो के तबाह किया, आरक्षण खत्म किया और अब इसे जला दिया, देश के राजा मे जरा स राजधर्म की लोकलज्जा बची हो तो संविधान के जलाने वालो को “दी प्रीव्हेन्शन ऑफ इन्सल्ट टु नैशनल ऑनर एक्ट (संशोधन) 2005′ के तहत दिल्ली पुलिस कानूनी कार्रवाई और दिल्ली के जंतर मंतर स्थित ज़िम्मेदार पुलिस अफ़सर को इसी धारा मे कार्यवाही करे।


गौरतलब है कि भारतीय संविधान की प्रतियां जलाने में शामिल एक श्रीनिवास पांडेय ने इसका वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था, जिसमें उसने बीआर अंबेडकर के लिये आपत्तीजनक शब्दों का भी प्रयोग किया है। पांडेय ने कहा है कि आरक्षण विरोधियों के द्वारा आज जन्तर मंतर पर अम्बेडकर के संविधान को जलाया गया। अधिक से अधिक शेयर करें। और बता दे उन भीमटो के समर्थको को कि सवर्ण कमजोर नही अब यह भी उतर गया है सड़को पर अपने अधिकारों के लिए।