Home विदेश रोहिंग्या जनसंहार से नाराज़ कनाडा ने आंग सूकी को किया अपमानित, छीन...

रोहिंग्या जनसंहार से नाराज़ कनाडा ने आंग सूकी को किया अपमानित, छीन ली मानद उपाधी और….

SHARE

नई दिल्ली: रोहिंग्या में पिछले दिनों जो अमानवीयता देखने को मिली थी उससे सब दुःखी थे,जिसके चलते पूरी दुनिया मे उसका विरोध हुआ था,लाखों की संख्या में लोग बेघर होकर म्यांमार छोड़ने पर मजबूर हुए थे जो अन्य देशों में शिविरों में ज़िन्दगी गुज़ारने पर मजबूर हैं।

रोहिंग्या संकट के चलते कनाडा ने म्यांमार की नेता आंग सान सू की को दी गई मानद नागरिकता वापस ले ली है। इससे संबंधित एक प्रस्ताव गुरुवार को कनाडा की संसद ने सर्वसम्मिति से पारित कर दिया। नोबेल पुरस्कार विजेता सू की को 2007 में कनाडा की मानद नागरिकता दी गई थी।

म्यांमार में पिछले साल अगस्त में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ हुई हिंसा पर चुप्पी साधने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सू की की छवि काफी खराब हुई है। पिछले हफ्ते कनाडा ने इस घटना को नरसंहार करार दिया था। इसके बाद ही उनकी नागरिकता वापस लेने का फैसला किया गया। दलाई लामा, नेल्सन मंडेला और नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई को भी कनाडा ने मानद नागरिकता दे रखी है।

रोहिंग्या संकट को लेकर अमेरिका के होलोकास्ट संग्रहालय ने सू की को दिया एली वीजल पुरस्कार वापस ले लिया था। ब्रिटेन के ग्लासगो, ऑक्सफोर्ड, न्यूकैसल और इडेनबर्ग शहरों ने म्यांमार नेता को दी मानद उपाधियां वापस ले ली हैं। कनाडा के मानवाधिकार म्यूजियम में लगे सू की के चित्र पर अंधेरा कर दिया गया है।

गौरतलब है कि साल भर पहले म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानो के खिलाफ हिंसा भड़क उठी थी, जिसमें बोद्ध चरमपंथियों और म्यांमार की सेना ने मिलकर हजारों की संख्या में रोहिंग्या मुसलमानों की हत्याऐं कीं थी, इसके बाद बड़ीं संख्या में रोहिंग्या मुसलमानों ने बंग्लादेश में शरण ली थी। रोहिंग्या में हुए इस जनसंहार पर संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार को फटकारते हुए इसे रोहिंग्या मुसलमानों का नस्ली सफाया करार दिया था।