Home देश भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद बोले ‘मुसलमानों को आबादी के हिसाब से...

भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद बोले ‘मुसलमानों को आबादी के हिसाब से मिले आरक्षण, लागू हो जस्टिस सच्चर की सिफारिशें’

SHARE

नई दिल्ली – भीम आर्मी के संस्थापक एंव युवा समाजिक नेता चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा अल्पसंख्यक समाज के विकास के लिये जस्टिस सच्चर की सिफारिशों को लागू किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज को आबादी के हिसाब से आरक्षण दिया जाना चाहिये, साथ ही उन्होंने कहा कि जस्टिस सच्चर की सिफारिशो को अभी तक लागू नहीं किया गया है इसे लागू किये जाने की जरूरत है ताकि मुस्लिम समाज का विकास हो सके। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में अगर पीएम मोदी और केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी उत्तर प्रदेश से चुनाव लड़ती हैं तो भीम आर्मी इन दोनो नेताओं को हराने के लिये काम करेगी। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के शिक्षा मंत्री रहते डॉक्टर रोहित वेमूल की संस्थानिक हत्या की गई ऐसे लोगों को हम लोकसभा में घुसने नहीं देंगे। चंद्रशेखर आज़ाद ने दिल्ली के प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि बीते साल दो अप्रैल को भारत बंद आंदोलन के दौरान बहुजन समाज के लोगों पर सरकार प्रायोजित अत्याचार किया गया अभी तक उत्तर प्रदेश की जेलों में बहुजन समाज के लोग बंद हैं जिन पर रासुका लगाया हुआ है, ये गिरफ्तारियां दो अप्रैल के भारत बंद के बाद की गईं थीं। उन्होंने कहा कि हम ऐसी सरकार को बर्दाश्त नहीं करेंगे और आगामी लोकसभा चुनाव में इसे सत्ता से बाहर करेंगे।

चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा कि नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद एक भी वादा पूरा नहीं किया, न 15 लाख रूपये खाते में आए और न ही दो करोड़ युवाओं को प्रति वर्ष रोजगार दिया गया। उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी के प्रधानमंत्री रहते लगातार सरहद पर सेना के जवान शहीद होते रहे हैं, राफेल से जुड़ीं काग़ज़ात चोरी हो रहे हैं, यह बताता है कि चौकीदार सिर्फ चोर ही नही है बल्कि कमज़ोर और नाकार भी है। ऐसे लोगों को लोकसभा में बैठने का कोई अधिकार नही है।

यह पूछे जाने पर कि क्या वे खुद नरेन्द्र मोदी के सामने चुनावी मैदान में उतरेंगे इस पर चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा कि भीम आर्मी राजनीतिक दल नही है अगर मोदी और स्मृति के सामने गठबंधन का प्रत्याशी इन दोनों को हराने में सक्षम होगा तो गठबंधन के प्रत्याशी का समर्थन किया जाएगा, नहीं तो भीम आर्मी अपना प्रत्याशी उतारेगी और गठबंधन से समर्थन लेकर इन दोनो नाकार लोगों को लोकसभा में जाने से रोकेगी।

भीम आर्मी के अध्यक्ष ने सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव पर भी सवालिया निशान लगाए, उन्होंने सवाल किया कि हाल ही में सपा के संरक्षक मुलामय सिंह यादव ने इच्छा जाहिर की थी कि नरेन्द्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री देखना चाहते हैं, उन्होंने सवाल किया कि अखिलेश यादव को नेता जी के इस बयान पर स्पष्टीकरण देने चाहिये। साथ ही उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार में सपा सांसद यशवीर सिंह ने प्रोन्नती में आरक्षण विधेयक को लोकसभा में फाड़ दिया था, ऐसा करके क्या सपा बहुजन समाज का वोट ले पाएगी ? उन्होंने सवाल किया कि सपा सुप्रीमो प्रोन्नती में आरक्षण पर अपनी राय स्पष्ट करें, और अपने चुनावी घोषणा पत्र में भी प्रोन्नती में आरक्षण देने का वादा करें।

उन्होंने कहा कि हाल ही में पुलवामा में आतंकी हमले में मारे गए अर्ध सैनिक बलों को शहीद का दर्जा मिले, साथ ही सेना में चमार रेजीमेंट बननी चाहिये। नहीं तो जाति के नाम पर बनी हुई रेजीमेंट को भी खत्म करना चाहिये। चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा कि अल्पसंख्यक समाज के विकास के लिये जस्टिस सच्चर की सिफारिशों को लागू किया जाना चाहिये। उन्होंने आदिवासियों की जमीनें ह़ड़पने के खिलाफ भी नाराज़गी जाहिर की और सरकार से मांग की आदिवासियों को उनकी ज़मीनो से बेदखल न किया जाए। उन्होंने कहा कि स्वर्ण को आर्थिक आधार पर आरक्षण देना संविधान की मूल भावना के खिलाफ है इसे तत्काल वापस रोकना चाहिये, साथ ही ओबीसी समाज के जातीय जनगणना के आंकड़े जारी किये जाने चाहियें।

मोबइल पर नेशनल स्पीक की एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिये यहां क्लिक करें