Sat. Jul 20th, 2019

NationalSpeak

Awaam ki awaaz

ज़ायरा पर गुस्सा होने से पहले सोचिए क्या आपने कभी इस पर गुस्सा दिखाया कि सिनेमा और टीवी सांप्रदायिकता क्यों परोस रहा है?

1 min read

ज़ैग़म मुर्तज़ा

आपका ग़ुस्सा इस बात पर तो है कि किसी ने मज़हब के नाम पर सिनेमा छोड़ दिया… लेकिन आपने इस बात पर कभी ग़ुस्सा नहीं दिखाया कि सिनेमा और टीवी मज़हबी चरस क्यों परोस रहा है? पिछले 10-15 साल में बने धारावाहिक और फ़िल्म देखिए। उनमें सिवा मज़हबी चरस, मज़हबी नफरत और एक ख़ास मज़हब को निशाना बनाने के सिवा कुछ हो? आज अगर दाढ़ी रखना या कुर्ता पैजामा पहनना मज़हबी अपराध नज़र आता है तो इसलिए कि हमारे टीवी और सिनेमा ने सबको ऐसा बताया है। सिनेमा क्या कहता है? दाढ़ी वाला अगर गले में चेक का स्कार्फ़ टांगे है तो पक्का आतंकवादी होगा। लड़की का अपहरण करने वाला दाढ़ी टोपी वाला ही होगा… अंडरवर्ल्ड का भाई सिर्फ पठानी सूट पहनता है और आंखों में सुरमा भी लगाता है। बात सिर्फ प्रतीकों तक खत्म नहीं होती है।

अकबर और खिलजी छोड़िये… दाराशिकोह का सेनापति रुस्तम ख़ाँ हिन्दू लड़कियों का अपृह्ता है… अकबर का संरक्षक बैरम ख़ाँ सिरे से चरित्रहीन है, दफ्तर का बेईमान मियां है। चोर ऑटोवाला और जेबकतरा मियां ही है… वग़ैरह वग़ैरह। पिछले 20-30 साल में एक तरफ गांव गांव से तलाश कर भगवान टीवी के पर्दे पर लाये गये। कहानी घर घर की से लेकर तारक मेहता का चश्मा तक मज़हब के घोल सब-कांशिएन्स माइंड में ठूँसते रहे। लोगों को बताया गया कि क्या शुभ है, क्या अशुभ, क्या धर्म है क्या अधर्म। एक भी लिबरल ने नहीं कहा कि ये चाशनी मज़हब की है और ग़लत है। एजेंडा फ़िल्म बनीं… इनमें घर के भेदी, पाकिस्तान समर्थक, देशद्रोही और सेना के खिलाफ साजिश करने वाले सिर्फ मुसलमान ही दिखे। पाकिस्तान के बहाने एक पूरे वर्ग के ख़िलाफ़ बहुसंख्यकों के मन में ज़हर की खेती की गई।

आपको क्या लगता है, ये जो 6-7 साल के बच्चे जब कहते हैं मुसलमान अच्छे नहीं होते? जब युवा के लिए बेरोज़गारी से बड़ा मुद्दा मज़हब होता है? जब कोई मुसलमान होने भर से किराए पर मकान नहीं देता… या जब कोई लड़की हमसे कहती है सर आप थोड़े अलग ही, वरना मुसलमान को देख कर छिपना पड़ता है… ये सब किसने सिखाया?? मां बाप ने? शायद सिखाया हो, लेकिन उस से ज़्यादा ये डर सिनेमा और टीवी ने पैदा किया। सिनेमा या टीवी कभी कला रहे होंगे या आपके लिए अभी भी होंगे, मगर अब ये नफरत फैलाने और समाज को बांटने की मशीन हैं।

सिनेमा उद्योग खुद दो गुटों में बंटा है। एक जो ईद या दूसरे त्योहारों का मोहताज है। उसकी फिल्मों में सुपर हीरो कुटे पिटे मुस्लिम युवाओं की दमित भावनाओं को भुनाता है और दूसरा गुट इन्हीं मुसलमानों के ख़िलाफ़ ढकी छिपी नफरती भावनाओं को बेचता है। कुल मिलाकर फ़िल्म के केंद्र में, विषयो के केंद्र में और फिर नफरतों के केंद्र में मुसलमान है, जिसके मर्द पठान सूट, पहने, जाली वाली टोपी और आंख में सुरमा लगा कर अपराध करता है। उसकी महिलाएं बुर्का पहन कर अपराधी का साथ देती है या बुर्का फेंक कर बिकिनी पहनने का संघर्ष कर रही है।

इसके बीच में पढ़ा लिखा, सामान्य सा दिखने वाला, काम काजी, दफ्तर जाने वाला या स्कूल जाता मुसलमान तस्वीर से ग़ायब है। सिनेमा का मुसलमान सिर्फ मज़दूर है, अशिक्षित है, अपराधी है, समानता विरोधी है, ढकोसलेबाज़ है, विकास विरोधी है, देश विरोधी है और अगर शासक है तो हिंदुओं का दमन करने वाला है। मज़ेदार बात ये है कि इस सबके विरोध में देश भर में कहीं एक आवाज़ नहीं है।

(लेखक जाने माने पत्रकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)

8 thoughts on “ज़ायरा पर गुस्सा होने से पहले सोचिए क्या आपने कभी इस पर गुस्सा दिखाया कि सिनेमा और टीवी सांप्रदायिकता क्यों परोस रहा है?

  1. All over the world individuals prefer the spend their own free time playing at an on-line
    casino. Numerous are playing casino games for the reason why they wish to relax after a
    really difficult day at work. However there
    are some others which are playing casino games professionally.

    For the beginners out there, the actual reason being
    actually the best way to learning easy methods to play casino games.
    It may be in order to go a few casino for that first
    along with try to learn some among the complicated video.
    When you offer it online is actually a lot easier may can to be able to time.
    Are actually a lot of people at casinos that get all serious and upset when you make
    mistakes. Step learn at an online casino you seem able much more about without worrying about some people
    affecting your decisions exactly what you take care of.

    If you keep losing, it is far from wise to continue the games.
    You can choose a mode known as auto-daub system.
    Get back to the game after sometime. Better start a new game.
    Use bingo sites that enable you to change your cards. You can go your luck with many cards may also eventually be favoured.

    Last but not the least, participate in chat boards.
    The people you make friends with may have similar interest with regard to bingo and
    you have to know many online bingo strategies.

    The third strategy is not to be greedy. You must where and once
    to put a stop to. On some days when luck is completely with you, you may tend removed on playing,
    trying drugs up for the losses with the other loads of cash lucky amount of hours.
    However, it is important to understand that luck aren’t going with you throughout a lucky 24 hours.
    Suddenly you may end up losing solar power won. So, keep a tab on that.
    Exactly the same applies a good unlucky day when you tend to assist on playing when an individual might be
    continuously losing, hoping for the one hand that will wipe out of the losses.
    You only need to in order to stop.

    Playing casino games at on-land casinos exposes for you to so
    many vices. These vices can cause grave threats to
    well being. You might indulge yourself in excessive drinking, prostitution, stealing
    and drugs among many other immoral dealings. You might not be a smoker we will be at risk of contracting diseases from
    the cigarette smoke in the casino. With lucky palace free credit, your is in safe wrists.

    You will be able perform from the comfort of your chosen place in the home.
    You can play from the sitting room, bedroom or the balcony.
    You are totally without any the possible risks with on-land taverns.

    It is actually insane a lot more say that you’ll design that is part of of a bingo game (online).

    Greater you can try subsequent a few bingo how to end the favourably.

    Never play in a big crowd. No doubt socialising while you play online bingo is fun, but
    less the crowd, more are the chances of you winning.
    Decision site after enough medical studies. It is good to
    try using sites that offer bingo games (online) using a number of bonuses.
    This will help you recover even you actually lose a bunch of
    money. Choose the number of cards properly.
    It is safe to play with less number of cards.
    Although number of cards increases, you will begin finding it tough to manage.

    You would get even better likelihood of winning if the casino you’re playing in offers a
    guide called the en prison bet. Use the lessens the
    house edge to a definite.35%, which is very acceptable indeed.
    This rule only applies to even money bets,
    however. Let’s say you’ve got a bet on dunkelhutige.
    If the ball lands on a zero slot, your bet does not win or lose, but is locked up for another spin. If the ball lands on black for spin, you get their original bet.
    Are going to lands on red, you lose. And when the ball lands on yet another
    zero, your bet is imprisoned for one more round. http://web.forumcinemas.ee/podcast/archives/100-Filmimoela-89.html

  2. Hey there terrific website! Does running a blog like this take a great deal of work?
    I’ve virtually no expertise in computer programming but I was hoping to start
    my own blog in the near future. Anyway, if you have any recommendations
    or techniques for new blog owners please share.
    I understand this is off subject but I simply needed to
    ask. Thanks a lot!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

July 2019
M T W T F S S
« Jun    
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031