Home देश CBI विवादः आलोक वर्मा की जासूसी की जा रही थी! चार संदिग्ध...

CBI विवादः आलोक वर्मा की जासूसी की जा रही थी! चार संदिग्ध हिरासत में

SHARE

नई दिल्ली – सीबीआई में उजागर रिश्वतखोरी के बाद छुट्टी पर भेजे गए सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा के आवास के बाहर से चार संदिग्धों को सीबीआई निदेशक के सुरक्षाकर्मियो ने हिरासत में लिया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार अभी इन संदिग्धों की पहचान और इनके मकसद का पता नहीं चल पाया है लेकिन जनपथ पर वे आलोक वर्मा के आवास के बाहर जासूसी करते पकड़े गए.

सूत्रों की मानें तो वर्मा के मुख्य सुरक्षा अधिकारी ने संदिग्धों को कार में बैठने के दौरान पकड़ लिया. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक संदिग्धों की जेब से आईबी के कार्ड मिले हैं. फिलहाल दिल्ली पुलिस और सीबीआई की टीमें इस मामले की जांच कर रही हैं. सीबीआई में कथित घूसकांड के बीच शीर्ष अधिकारियों के बीच टकराव की स्थिति के बीच बुधवार को केंद्र सरकार ने आलोक वर्मा और सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया था. आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने के बाद मोदी सरकार पर कई गंभीर आरोल लग रहे हैं.

इस सबके बीच देश के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार ने यह फैसला राफेल सौदे को लेकर शुरू होने वाली जांच में बाधा डालने के लिए लिया है. कांग्रेस का कहना है कि आलोक वर्मा राफेल विमान सौदे से जुड़े कागजात एकत्र कर रहे थे और जल्द ही वे इस पर जांच के आदेश देने वाले थे.मोदी सरकार द्वारा खुद को छुट्टी पर भेजे जान को आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को चैलेंज किया. इस मालमे की सुनवाई 26 अक्टूबर को होगी.

इस मुद्दे पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि, “सरकार के यंत्र-तंत्र का दुरुपयोग करके अपनी ही संस्था की जासूसी करने की कोशिश हो रही है. सरकार छटपटा रही है, रात भर नींद नहीं आ रही है.“

उन्होंने कहा कि, “इस सरकार को ‘रफेलोमेनिया’ के भय में बौखलाहट इतनी बढ़ गयी है कि मोदी सरकार अपनी ही सीबीआई की जासूसी कर रही है.“ उन्होंने कहा कि, “आज प्रधानमंत्री मोदी, उनकी सरकार और सत्ताधारी पार्टी के अध्यक्ष बेहद बेशर्मी से खुल्लम-खुल्ला सीबीआई की जासूसी करा रहे हैं. यह एक नया स्नूपगेट है.“

उन्होंने कहा कि, “स्वायत्तता गयी चूल्हे में, अराजकता व तानाशाही राजनैतिक अतिक्रमण से ग्रसित हो गई है सीबीआई, सीवीसी और ईडी. “उन्होंने बताया कि, “इस बात के पुख्ता सबूत और कैमरा की रिकॉर्डिंग मौजूद है कि खुफिया ब्यूरो के कम से कम चार अधिकारी सीबीआई के पदमुक्त डायरेक्टर आलोक वर्मा के दरवाजे से पकड़े गए हैं. सरकार को चिंता है कि इन लोगों के पास बहुत कुछ हो सकता है जो उसके लिए परेशानी का सबब बन सकता है.”

नवजीवन के इनपुट से