Sat. Jul 20th, 2019

NationalSpeak

Awaam ki awaaz

पूर्व आईपीएस ध्रुव गुप्त बोले ‘हे धर्मांधों तुम्हारा धर्म नहीं तुम खुद खतरे में हो।’

1 min read

नई दिल्ली – धर्म का सहारा लेकेर उत्पात मचाने वाले और हर समय धर्म को ख़तरे में बताने वाले लोगों को पूर्व आईपीएस ध्रुव गुप्त ने फटकार लगाई है। उन्होंने कहा है कि धर्मांधों का धर्म नहीं बल्कि वे खुद ख़तरे में हैं। पूर्व आईपीएस ने ये बातें तेजी से पिघलते ग्लेशियर को लेकर कही हैं। उन्होंने सोशल मीडिय पर एक टिप्पणी की है जिसमें उन्होंने पर्यावरण में आई तब्दीली के ख़तरों पर लोगों का ध्यान आकर्षित कराने की कोशिश की है।

उन्होंने कहा कि अपने-अपने धर्मों को बचाने के लिए सड़कों से लेकर यहां सोशल मीडिया तक को गंदा करने वाले हिन्दू और मुस्लिम गधों, वस्तुतः तुम्हारा धर्म नहीं तुम खुद खतरे में हो। अगले दस-बीस सालों में तुम्हारे अपने देश का तापमान 55 डिग्री सेल्सियस होने वाला है। इतने तापमान में कोई जीवित नहीं बचने वाला।

पूर्व आईपीएस ने कहा कि बढ़ती गर्मी और प्रदूषण की वजह से जिस तेजी से ग्लेशियर पिघल रहे हैं उससे यह आशंका पैदा हो गई है कि देश के कई-कई शहर डूब मरेंगे। विकास के नाम पर रोज़ हज़ारों पेड़ काटे जा रहे हैं। जमीन का जलस्तर इस रफ़्तार से नीचे जा रहा है कि अगले कुछ सालों में पीने के पानी के लिए लोग तरस जाएंगे। तब धर्म के लिए नहीं, पीने के पानी के लिए दंगे होंगे। कहने का मतलब यह कि पहले अपनी-अपनी जान बचाने की सोचो !

उन्होंने कहा कि दुनिया का कोई धर्म, कोई ईश्वर तुम्हें बचाने नहीं आएगा। अगर सामने दिख रहे प्रलय से बच गए तो बाद में धर्म को भी बचा लेना। वैसे भी अपना और देश दुनिया के लोगों का जीवन बचाने से बड़ा कोई धर्म नहीं है। अगर लड़ने की इतनी ही खुजली हो रही है तो जीवन को बचाने के लिए लड़ों! प्रकृति को, जंगल को, पहाड़ों को, वृक्षों को, पानी को, नदियों और तालाबों को, हवा को बचाने के लिए लड़ो! चौतरफा बढ़ते हुए प्रदूषण के खिलाफ लड़ो ! सड़कों पर बेहिसाब बढ़ते वाहनों और उनसे निकलने वाले जहरीले धुंए के खिलाफ लड़ो ! हवा और पानी को गंदा करने वाले कल-कारखानों के खिलाफ लड़ो!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

July 2019
M T W T F S S
« Jun    
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031