Home देश खुलासाः आकाश गर्ग ने किया था अंकित का मर्डर, लेकिन संघी मीडिया...

खुलासाः आकाश गर्ग ने किया था अंकित का मर्डर, लेकिन संघी मीडिया ने मुसलमानों को किया बदनाम

SHARE

नई दिल्ली – हाल ही में दिल्ली में एक 31 वर्षीय शिक्षक अंकित कुमार गर्ग की अक्टूबर की पहली तारीख को दिल्ली में गोली मारकर हत्या दी गई। घटना के तुरंत बाद, कई समाचार संगठनों ने बताया कि यह ऑनर किलिंग का मामला था। इन ख़बरों का आधार पीड़ित के परिवार द्वारा लगाया गया आरोप था कि जिस मुस्लिम लड़की के साथ उसके संबंध थे, उसी के परिवार द्वारा अंकित की हत्या हुई थी।

अब इस मामले में नया मोड़ आया है, पुलिस ने इस हत्याकांड में आकाश गर्ग नाम के एक छात्र को गिरफ्तार किया है। जैसा बताया गया था कि यह मामला ऑनर किलिंग का है, लेकिन आकाश की गिरफ्तारी से साफ हो चुका है कि यह मामला ऑनर किलिंग का नही है। पांच अक्टूबर, 2018 को एक प्रेस विज्ञप्ति के द्वारा दिल्ली पुलिस ने इसकी पुष्टि की थी। प्रेस विज्ञप्ति में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि 21 वर्षीय आकाश को अंकित गर्ग की हत्या के लिए गिरफ्तार किया गया है।

फेक न्यूज़ को एक्सपोज करने वाली न्यूज़ वेबसाईट ऑल्ट न्यूज़ ने इसका भंडाफोड़ किया है। वेबसाईट ने ने दिल्ली के अंकित कुमार गर्ग की हत्या को लेकर मीडिया की रिपोर्टिंग का विश्लेषण पेश किया है। 1 अक्तूबर 2018 को अंकित की हत्या हुई थी। किस तरह से मीडिया ने धार्मिक एंगल को उभारा, इस तरह की हेडिंग लगाई कि धार्मिक भावना भड़क जाए। सोशल मीडिया अलग से सक्रिय हो गया।

 


ऑल्ट न्यूज़ ने बताया है कि अंकित कुमार की ज़रूर मुस्लिम लड़की से दोस्ती थी। इस दोस्ती से जलता था आकाश। दिल्ली पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से आकाश को पकड़ लिया है। आकाश की यह रिपोर्ट मीडिया के लिए सबक है जो अपना सबक कभी याद नहीं रखता। उसे सिर्फ नेता का याद रह गया है जिसका भजन करते रहता है।

सोशल मीडिया पर मुसलमानों पर निशाना

अंकित गर्ग की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर सक्रिय एक मानसिकता विशेष ने अंकित के बहाने मुसलमानों पर निशाना साधा था। मुसलमानों पर इस हत्या का दोष मढ़ने में कई मीडिया चैनलों के एंकर भी शामिल थे। जी न्यूज़ अपने चिरपरिचित अंदाज में मुसलमानों को कौस रहा था तो वहीं न्यूज 24 के एंकर मानक गुप्ता ने लिखा था कि दिल्ली में एक और अंकित की हत्या…!!! वजह वही – मुस्लिम लड़की से प्रेम कर बैठा।



उधर भाजपा के लोकसभा सांसद प्रवीण सिंह साहब ने कहा कि दिल्ली के मालिक अरविंद केजरीवाल को विवेक तिवारी का धर्म पता चल गया क्योंकि वो यूपी के थे। अब जबकि अंकित की हत्या दिल्ली में उनके नाक के नीचे हुई है उनको न तो अंकित के धर्म का पता चल पा रहा है न ही समुदाय विशेष से ताल्लुक रखने वाले हत्यारे का !