Home सिनेमा अभिनेता प्रकाश राज बोले, ‘मोदी सरकार के गलत कामों पर जो लोग...

अभिनेता प्रकाश राज बोले, ‘मोदी सरकार के गलत कामों पर जो लोग खामोश हैं, इतिहास उन्हें माफ नहीं करेगा’

SHARE

नई दिल्ली – बॉलीवुड साउथ सिने जगत के मशहूर अभिनेता प्रकाश राज सामाजिक मुद्दों और मानवाधिकार जैसे विषयों को लेकर भी शुरू से मुखर रहे हैं. उन्होंने अपनी दोस्त और कन्नड़ भाषा की निर्भीक पत्रकार गौरी लंकेश की बीते साल हुई हत्या के बाद से उन्होंने फासीवाद के खिलाफ खुलकर आवाज उठाई है. उसके बाद से वे लगातार मोदी सरकार की आलोचना करते रहे हैं. वे मॉबलिंचिंग की घटनाओ के खिलाफ भी मुखर होते रहे हैं.

अब एक बार फिर उन्होंने मोदी सरकार की नीतियों को आड़े हाथों लिया है, और कहा है कि इस सरकार के गलत कामो पर जो लोग खामोश हैं इतिहास उन्हें माफ नहीं करेगा. प्रकाश राज ने ये बातें नवजीवन न्यूज़ पोर्टल को दिए गए एक साक्षात्कार में कही हैं.

उन्होंने कहा कि आज आवाज उठाना बहुत जरूरी है. आज के दौर में जब फासीवाद अपने चरम पर है और वे लोग अपने अलग अलग एजेंडों के साथ सत्ता पर अपनी पकड़ को बरकरार रखने के लिए बुरी तरह हताश हैं, ऐसे में मैं उन्हें हारते हुए देख रहा हूं, उनकी सच्चाई जाहिर होते हुए देख रहा हूं, मुझे लगता है कि उनका मुखौटा उतर रहा है और लोग उन्हें पहचान रहे हैं.

प्रकाश राज ने कहा कि  मैं ये कहना चाहता हूं कि मैं लोगों को बदहाली में देख रहा हूं. डेमोक्रेटिक स्पेस तेजी से कम होता जा रहा है. एक नागरिक के रूप में मैं इसे लेकर परेशान हूं, मुझे चिंता है और इसे बदलने के लिए मैं अपनी आवाज उठा रहा हूं.

बेबाकी से अपनी बात रखने वाले और आंदोलनकारी रहे इस अभिनेता ने कहा कि जिन्होंने आज आवाज नहीं उठाई है, उन्हें उसकी कीमत चुकानी पड़ेगी जब परिवर्तन होगा. तब लोग उनसे पूछेंगे कि उन्होंने तब आवाज क्यों नहीं उठाई. इतिहास उन्हें माफ नहीं करेगा. जो लोग बोल सकते हैं, उन्हें बोलना चाहिए. वक्त इसके पीछे की वजह को सबके सामने लाएगा. कुछ गड़े मुर्दे बाहर आएंगे और कहेंगे कि इसमें उन सबके अपने निहित स्वार्थ थे.

प्रकाश राज ने इंटरव्यू में कहा कि  जब मैंने सवाल करने शुरू किये, तो मुझ पर किस तरह का हमला हुआ, वह अद्भुत था. तब मुझे ये एहसास हुआ कि अब तक मैं एक अभिनेता के मिथक में जी रहा था और सोचता था कि प्रशंसक हैं, लोग मुझे पसंद करते हैं, चाहते हैं. तब मैंने सोचा ही नहीं कि वहां कोई बड़ी समस्या है. मैंने उसे आते हुए देखा और मुझे खुद को जवाब देना पड़ा. और मैं वह अभी भी कर रहा हूं. यह मेरे लिए महत्वपूर्ण है, बहुत महत्वपूर्ण है.