Home विशेष रिपोर्ट तो अब Zee ग्रुप को खरीदेंगे मुकेश अंबानी?

तो अब Zee ग्रुप को खरीदेंगे मुकेश अंबानी?

SHARE

मुकेश अंबानी जी एंटरटेनमेंट खरीदने में इंट्रेस्टेड नजर आ रहे हैं, बिजनेस स्टैंडर्ड’ की रिपोर्ट में बताया गया है कि अंबानी जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज (जेडईईएल) में चंद्रा के हिस्से के आधे शेयर खरीद सकते हैं। उनके अलावा इस कंपनी को खरीदने की दौड़ में कई अंतर्राष्ट्रीय कंपनी भी शामिल हैं। इनमें अमेजन, ऐप्पल, टेन्सेंट और अलीबाबा के नाम हैं, जी ग्रुप के मालिक सुभाष चंद्रा के पास फिलहाल 3 महीने का समय है, जिसके दौरान वो अपनी हिस्सेदारी को बेच सकते हैं।

बुनियादी ढांचे के क्षेत्र पर आक्रामक तरीके से दांव लगाने और वीडियोकॉन का D2H कारोबार खरीदने के निर्णय के कारण सुभाष चंद्रा की मार्केट में हालत खस्ता है वह अपनी जी की हिस्सेदारी बेचकर कर्जदाताओं को पैसा चुकाने का भरोसा दिला रहे है।

लेकिन यह 1992 नही है यह 2019 है भारत की ब्रॉडकास्टिंग कम्पनियो का सुनहरा वक्त अब बीत चुका है मीडिया इंडस्ट्री में नेटफ्लिक्स और अमेजन प्राइम वीडियो जैसे नए प्लेयर आ चुके हैं नेटफ्लिक्स’ और ‘अमेजॉन’ जैसी कंपनियों को देखें तो इन्होंने पारंपरिक ब्रॉडकास्ट मॉडल को प्रभावित करने का काफी प्रयास किया है, जबकि करीब 25 सालों से ‘ZEE’ इस पर अपनी पकड़ मजबूत बनाए हुए है।

इस नए सेक्टर में भारी ग्रोथ की गुंजाइश देखते हुए मीडिया कंपनियों के मर्जर और खरीद की बड़ी हलचल की आहट साफ नजर आ रही है. ‘ नेटफ्लिक्स और अमेजन प्राइम वीडियो जैसे नए जमाने के मीडिया ने बदलने पर मजबूर कर दिया है. स्टार ने हॉटस्टार को प्रमोट करना शुरु कर दिया अब अंतराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने भविष्य का सही पूर्वानुमान लगा लिया है Zee की रणनीतियां अब भी पिछले जमाने की ही है, जी जैसा ही संकट देरसबेर अन्य ब्रॉडकास्टिंग कम्पनियों को झेलना होगा

ट्राई के नए आदेशों से अब डीटीएच कम्पनियों द्वारा बनाए गए पैकेज खत्म हो गए है अब ग्राहक स्वयं चुन सकता है कि उसे क्या देखना है और क्या नही, यह आदेश ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र से जुड़ी कम्पनियों को बहुत नागवार गुजरेगा जी के शेयर्स के गिरने की एक बड़ी वजह यह भी है।